स्व-प्रबंधन से व्यक्तित्व विकास
March 27, 2020
श्योर सक्सेस मंत्रा
April 2, 2020

आपके सामने किसी भी तरह की समस्या है, चाहे वो करियर से संबंधित है या प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी से संबंधित है या आप अपनी जिज्ञासा के लिए कुछ पूछना चाहते हैं , तो हम आपका स्वागत करते हैं। आपकी हर तरह की समस्या का समाधान और जिज्ञासा को शांत किया जाएगा। हमारे जवाब आपके लिए बेहद उपयोगी साबित होंगे।

प्रश्न 1.: मैं एक गरीब परिवार से संबंध रखता हूं , इसलिए महंगी कोचिंग करना मेरे लिए बहुत ज्यादा मुश्किल काम है, क्या बिना कोचिंग किए मैं R.A.S बनने का सपना साकार कर सकता हूं ? मनोज हरितवाल

उत्तर : मनोज जी , आप निश्चित रूप से अपने सपने साकार कर सकते हैं। आप ऐसे सैकड़ों उदाहरण देखेंगे कि जिनकी पारिवारिक पृष्ठभूमि अच्छी नहीं रही है, उन्होंने शानदार सफलता अर्जित की है। सफलता के लिए सबसे पहले तो आपका दृढ़ विश्वास सबसे ज्यादा मायने रखता है । आपने दृढ़ता से कुछ कर गुजरने का ठान लिया तो फिर कोई बाधा आपको रोक ही नहीं सकती । अब बात आपके सवाल का व्यावहारिक दृष्टिकोण से जवाब देने की है, तो मैं आपको बताना चाहूंगा कि स्वाध्याय से महत्त्वपूर्ण कुछ भी नहीं है । सफलता कोई कोचिंग , कोई संस्थान नहीं दिला सकता जब तक कि एक प्रतियोगी का आत्मविश्वास मजबूत ना हो और वो स्वाध्याय नहीं करे। इसलिए आप दिल छोटा नहीं करें । आपकी सफलता सिर्फ आपकी मुट्ठी में हैं बाकी तो सिर्फ मार्केटिंग के फंडे है। एक दिन आप जब अपनी दम पर सफल होंगे तो यह बात आपके और ज्यादा अच्छे ढंग से समझ आयेगी। आप इस ब्लॉग पर दिए मेरे आर्टिकल को पढ़कर अपनी रणनीति बनाईए, कुछ अच्छी प्रामाणिक अध्ययन सामग्री इकट्ठा कीजिए , टोपिकवाइज NCERT की बुक्स एकजुट कीजिए , पिछले कुछ वर्षों के प्रश्नपत्र देखिए और गंभीरता से अपनी तैयारी में लग जाइए । विश्वास कीजिए आपको सफलता मिलकर रहेगी। नियमित रूप से आप इस ब्लॉग को देखते रहिए, बहुत जल्दी हम इसी ब्लॉग पर आपके लिए काफी उपयोगी सामग्री उपलब्ध कराने के लिए प्रयासरत हैं।

प्रश्न -2 मैं अपना कॅरियर लॉं के फील्ड में बनाना चाहता हूँ, जबकि मेरे परिजन मुझे डॉक्टर बनाना चाहते हैं लेकिन मेरा इंटरेस्ट डॉक्टर बनने में बिलकुल भी नहीं है । आप बताएं मुझे क्या करना चाहिए ?

– अनुराग शर्मा, जोधपुर

उत्तर – अनुराग, आप बिलकुल भी चिंतित मत होइए। हर समस्या का कोई ना कोई समाधान अवश्य होता है। यह समस्या सिर्फ आपकी नहीं है, देश के अधिकांश युवाओं की भी यही समस्या है। सबसे पहले तो मैं आपको बता दूँ कि माता-पिता से ज्यादा एक बेटे -बेटी का कोई और हितैषी हो ही नहीं सकता। वे जो भी सोचते हैं, सिर्फ और सिर्फ अपने बच्चों के हित के लिए सोचते हैं । इसलिए उनके प्रति आपके मन में कोई पूर्वाग्रह नहीं होना चाहिए। इस समस्या का समाधान आप खुद आसानी से कर सकते हैं। अपने माता -पिता या परिवार में जिनके साथ आप सहज हैं,उनसे आप अपनी समस्या शेयर कीजिये। आप उन्हें बताइये कि मेडिकल की अपेक्षा लॉं में आप ज्यादा अच्छा कर पाएंगे। आप उन्हें समझाइए कि मेडिकल क्षेत्र में रुचि नहीं होने से हो सकता है कि आप प्रवेश परीक्षा में सफल ना हो पाओ और इससे पैसा और समय दोनों की बर्बादी होगी। आपके माता-पिता आपकी भावना समझेंगे और आपको अपनी पसंद के क्षेत्र में कॅरियर बनाने की अनुमति अवश्य देंगे। लेकिन अब आपकी सोचने की बारी है । पूरे मन से अपने पसंद के क्षेत्र में कॅरियर बनाने के लिए जी-तोड़ मेहनत कीजिये और अपने माता-पिता को गर्व करने करने का मौका दीजिये । उन्हें एहसास कराइए कि आपका फैसला सिर्फ अपना कॅरियर बनाने के लिए ही था। आपको सफल देखकर उन्हें भी बहुत खुशी होगी ।

प्रश्न-3. कॉम्पटिशन की तैयारी कैसे करें कि सरकारी सेवा में चयन हो जाए ?

– राजकुमार जांगिड़, जस्टाना, सवाई माधोपुर

राजकुमार जी, माफ कीजिएगा पर आपका सवाल इस तरह का है कि जिसमें कर्म से पहले आप परिणाम के प्रति चिंतित हैं । हमारी संस्कृति में कर्म को प्रधान माना गया है । श्री रामचरितमानस में कहा गया है -कर्म प्रधान विश्व करि राखा । जो जसु करही सो तसु फलु चाखा । आशय यह है कि जो जिस तरह का कर्म करते हैं , उनको उसी के अनुरूप फल मिलता है। श्रीमदभगवदगीता में कहा गया है ” कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन” अर्थात हमें कर्म करना चाहिए, फल की इच्छा नहीं करनी चाहिए । ” कहने का तात्पर्य यह है कि यदि आप अपने उद्देश्य और कर्म के प्रति गंभीर है, तो आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता। इसी ब्लॉग पर सक्सेस मंत्रा के अंतर्गत आर्टिकल को पढ़कर आप अपनी रणनीति बनाइये और फिर सफल होने तक सब कुछ भूलकर जुट जाइए अपने सपनों को सच करने में – विश्वास कीजिये आप एक दिन अवश्य सफल होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *