स्व-प्रबंधन से व्यक्तित्व विकास

The Most Important Current Affairs: Round the Year
March 27, 2020
समस्या आपकी , समाधान हमारे ।
March 27, 2020

self- management

हमारे जीवन में हमारे शब्दों, हमारी प्रतिभा से अधिक हमारे व्यक्तित्व का महत्त्व होता है । एक प्रतिभावान व्यक्ति भी आचरण-विहीन और अशिष्ट है , तो उससे अच्छा नहीं हो सकता जो कि कम समझदार होने पर भी शिष्ट आचरण का धनी है । व्यक्ति से व्यक्तित्व बनता है और व्यक्तित्व से व्यक्ति। एक बेहतरीन व्यक्तित्व मानव के लिए सबसे बड़ा वरदान है। जिसके पास आकर्षक व्यक्तित्व है, उसे सब कुछ खुद-ब -खुद मिल जाएगा और जिसका व्यक्तित्व अच्छा नहीं है, उसे जो मिला है वो सब कुछ भी चला जाएगा । जीवन के हर मोड़ पर व्यक्तित्व की अहम भूमिका होती है । सरकारी और निजी संस्थानों में बड़े पदों पर नियुक्ति के लिए जो साक्षात्कार लिया जाता है, उसमें तो व्यक्तित्व ही सबसे ज्यादा देखा जाता है । आजकल तो बड़ी-बड़ी मल्टी-नेशनल कंपनीज़ में शिक्षा और डिग्री से ज्यादा आकर्षक व्यक्तित्व को सबसे ज्यादा वरीयता दी जाती है ।

अपना व्यक्तित्व आकर्षक कैसे बनाएँ ?

हमारे जीवन में हमारे शब्दों, हमारी प्रतिभा से अधिक हमारे व्यक्तित्व का महत्त्व होता है । एक प्रतिभावान व्यक्ति भी आचरण-विहीन और अशिष्ट है , तो उससे अच्छा नहीं हो सकता जो कि कम समझदार होने पर भी शिष्ट आचरण का धनी है । व्यक्ति से व्यक्तित्व बनता है और व्यक्तित्व से व्यक्ति। एक बेहतरीन व्यक्तित्व मानव के लिए सबसे बड़ा वरदान है। जिसके पास आकर्षक व्यक्तित्व है, उसे सब कुछ खुद-ब -खुद मिल जाएगा और जिसका व्यक्तित्व अच्छा नहीं है, उसे जो मिला है वो सब कुछ भी चला जाएगा । जीवन के हर मोड़ पर व्यक्तित्व की अहम भूमिका होती है । सरकारी और निजी संस्थानों में बड़े पदों पर नियुक्ति के लिए जो साक्षात्कार लिया जाता है, उसमें तो व्यक्तित्व ही सबसे ज्यादा देखा जाता है । आजकल तो बड़ी-बड़ी मल्टी-नेशनल कंपनीज़ में शिक्षा और डिग्री से ज्यादा आकर्षक व्यक्तित्व को सबसे ज्यादा वरीयता दी जाती है ।

 क्या है व्यक्तित्व (Personality)

 व्यक्तित्व शब्द में व्यक्ति शब्द मूल है और ‘त्व’ प्रत्यय है , इस पूरे शब्द का शाब्दिक अर्थ हुआ ‘व्यक्ति से संबन्धित’ अर्थात जो कुछ भी एक व्यक्ति में हैं, वह उसका व्यक्तित्व हुआ । यदि व्यक्ति में अच्छे गुण हैं, लोगों को  अपने व्यवहार और अपनी विशेषताओं  से अपनी ओर आकर्षित करने की क्षमता है  तो वह अच्छे व्यक्तित्व का धनी कहा जाता है । इंग्लिश में व्यक्तित्व को Personality कहा जाता है । आइये Personality के प्रत्येक अक्षर को कुछ इस तरह से समझें  कि उसमें व्यक्तित्व की समस्त खूबियाँ समाहित हो जाए –

P = Politeness   = विनम्रता

E=  Etiqutte       = शिष्टाचार

R = Rationality = तार्किकता

S = Simplicity    = सरलता, सादगी

O= Optimism     = आशावादिता

N = Naturality    = मौलिकता

A=   Awareness = जागरूकता

L = Leadership = नेतृत्वशीलता

I = Impressibility = प्रभावशीलता

T = Transformationility = परिवर्तनशीलता

Y = Youthfullness =  युवा दृष्टिकोण

Personality के प्रत्येक एक एक अक्षर में समाहित ये सारे गुण, सारी खूबियाँ मिलकर एक बेहतरीन व्यक्तित्व का निर्माण कर सकते हैं। एक व्यक्ति की आंतरिक और बाहरी, शारीरिक और मानसिक खूबियों के सामञ्ज्स्य से युक्त परिपूर्ण व्यक्तित्व को ही आकर्षक व्यक्तित्व कह सकते हैं ।

स्व-प्रबंधन(Self- Management) से व्यक्तित्व का विकास कैसे करें ?

आप सभी जानते हैं कि पूर्ण मनोयोग से किया जाये तो फिर असंभव कुछ भी नहीं है। व्यक्तित्व विकास या आकर्षक व्यक्तित्व का निर्माण भी नहीं। आप अपने व्यक्तित्व को आकर्षक बना सकते हैं, प्रभावोत्पादक भी  बना सकते हैं – बशर्ते आप में ऐसा करने का जुनून हो , प्रबल इच्छा-शक्ति हो । कमियाँ सभी में होती है और हर कमी को दूर भी किया जा सकता है।  महात्मा गांधी तो यहाँ तक कहा करते थे-

 “ यदि मनुष्य सीखने की आकांक्षा करे तो उसकी हर त्रुटि उसे शिक्षा प्रदान कर सकती है ।

          इसलिए  बेहतर होगा कि हम भाग्य भरोसे बैठने, इंतज़ार करने के बजाय लगातार परिश्रमशील रहकर प्रयास करते रहें क्योंकि कोशिश ही आपकी समस्त समस्याओं का समाधान एवं सफलता प्राप्त करने का प्रखर साधन है। कैल्विन कूलीज़ के शब्दों में कहें तो –

   “ लगातार कोशिश करते रहने के आगे कुछ नहीं टिक सकता, प्रतिभा भी नहीं । इससे ज्यादा कोई आम बात है ही नही कि बहुत सारे प्रतिभाशाली असफल लोग देखने को मिलते हैं। जीनियस भी नहीं, हारे हुए जीनियस तो एक कहावत है । शिक्षा भी नहींदुनिया पढे-लिखे नासमझों से भरी हुई है, लगातार कोशिश और दृढ़ इच्छा ही सर्वसमर्थ है।

                                                                                         – कैल्विन कूलीज़

आप भी दृढ़-इच्छा शक्ति और कोशिश से स्व-प्रबन्धन कर श्रेष्ठ व्यक्तित्व का निर्माण कर सकते हैं । स्व –प्रबंधन से तात्पर्य अपने आपका प्रबंधन कर स्वयं को व्यवस्थित करना है । आइये हम जाने कि किस तरह हम अपना प्रबंधन कर सकते हैं।

               आइये स्व –प्रबंधन के लिए हम एक शब्द “Watch” को व्यक्तित्व विकास का सूत्र बनाते हैं । इंग्लिश के शब्द “Watch” का अर्थ है -देखो । यह शब्द हमसे हर पल कहता है कि W,A,T,C और H को देखो । यहाँ पर जाने कि W, A, T, C और H का क्या अर्थ है-

W = Words   = शब्द

A= Attitude      = दृष्टिकोण, व्यवहार

T = Thought    = विचार

C= Curiosity    = जिज्ञासा

H= Happiness     = प्रसन्नता

शब्द (Words )

स्व-प्रबंधन के लिए शब्दों का अत्यधिक महत्त्व है. आपके व्यक्तित्व में आपके शब्दों का सबसे ज्यादा महत्त्व है. चाहे मौखिक रूप से बोले जाने वाले शब्द हों और या फिर लिखित अभिव्यक्ति के रूप में लिखे जाने वाले शब्द – दोनों ही प्रकार के शब्दों का हमारे जीवन में बहुत अधिक महत्त्व है . इन शब्दों का स्व-प्रबंधन कर हम अपने व्यक्तित्व को अत्यधिक आकर्षक बना सकते हैं.

यदि हम बोले जा रहे हर शब्द पर दृष्टि रखें कि हमें कैसा बोलना चाहिए ? क्या बोलना चाहिए ? क्यों बोलना चाहिए ?- इत्यादि पर भी दृष्टि रखकर हम मधुर-भाषी , विनम्र, सटीक अभिव्यक्ति करने वाले, सही समय पर बोलने वाले व्यक्तित्व के रूप में अपनी छवि बना सकते हैं . यही छवि आपके व्यक्तित्व को बेहतरीन व्यक्तित्व के रूप में पेश करेगी .

इसी तरह लिखने में भी सही शब्दों का चयन करने का शुरुआती तौर पर आप ध्यान रखेंगे तो आगे चलकर ये शब्द आपके जीवन का अभिन्न अंग तो बनेंगे ही साथ ही साथ अच्छा लेखन आपके व्यक्तित्व में चार चाँद लगाएगा .

यदि आप साक्षात्कार और परीक्षा के सन्दर्भ में भी शब्दों के प्रति सजग रहेंगे तो निश्चित मानिए बहुत जल्दी और आसानी से सफलता आपके कदम चूमेगी. परीक्षा के दौरान शब्द -सीमा, शब्दों के लिखने की समय- सीमा और सटीक उत्तर लिखने की कला आपके लिए बहुत लाभदायक सिद्ध होगी, वहीँ साक्षात्कार में आप आत्मविश्वास के साथ अच्छे और सटीक शब्दों का चयन कर इंटरव्यू बोर्ड का दिल जीतने में सफल होंगे .

दृष्टिकोण (Attitude)

हमारा दृष्टिकोण ही है ,जो जीवन को बिल्कुल बदलकर रख सकता है . व्यक्तित्व निर्माण में हमारे दृष्टिकोण की अत्यधिक अहम् भूमिका है. हमारा रुख , रवैया ही हमारी सोच को बनाता है. सकारात्मक दृष्टिकोण हमारी सोच को भी सकारात्मक बनाता है , परिणामस्वरूप हमें आगे की बढ़ने की प्रेरणा मिलती है और यही प्रेरणा आपके जीवन में सफलता लाती है.

इसलिए जीवन में सकारात्मक दृष्टिकोण को अपनाकर , नकारात्मक सोच को दूर कर आप अपने व्यक्तित्व में आशावादिता ला सकते हैं . यही आशावादिता आपके जीवन में सफलता की रोशनी लाएगी और आपके व्यक्तित्व को आकर्षक बनाएगी.

Thinking (सोच (विचार ))

अच्छी सोच का जीवन में अत्यधिक महत्त्व है. स्व-प्रबंधन के लिए व्यक्ति को अपने विचारों को , अपनी सोच को श्रेष्ठ और उत्कृष्ट बनाये रखने का प्रयास करते रहना चाहिए . अपनी सोच को यथासंभव व्यापकता प्रदान करते रहना चाहिए . हर पल किसी भी कार्य को करने से पहले करणीय -अकरणीय एवं अन्य पहलुओं पर विचार कर आप बहुत कुछ पा सकते हैं . इस तरह अपनी सोच को व्यापक और नियंत्रित कर आप अपने व्यक्तित्व को आकर्षक बना सकते हैं.

Curiosity(जिज्ञासा )

जिज्ञासा को ज्ञान की जननी कहा जाये तो यह अतिशयोक्ति नहीं होगी. जिज्ञासा ही वह तत्व है , जो किसी भी व्यक्ति के व्यक्तित्व को चामत्कारिक बना सकता है. जब आपमें सीखने की प्रबल इच्छा होगी तो आप कुछ भी सीख सकते हैं और अपने व्यक्तित्व में मन-माफिक बदलाव ला सकते हैं. इसलिए आपके व्यक्तित्व को आकर्षक बनाने में जो कुछ भी शेष रह रहा है, उसके प्रति जिज्ञासु बनिए और उन सब तत्वों को अपने व्यक्तित्व में समाहित कर बताइए इस जमाने को कि आप जैसा दूसरा कोई हो ही नहीं सकता .

Happiness(प्रसन्नता )

आपकी प्रसन्नता आपके व्यक्तित्व पर झलकती है . यदि आप प्रसन्न दिखाई देते हैं , तो आपकी कुछ खामियां भी छिपी रह जाती है. आपके चेहरे की मुस्कराहट आपकी प्रसन्नता की अभिव्यक्ति है . और यही मुस्कराहट आपको और आपके व्यक्तित्व को आकर्षक बनाती है.

आप और हम सब जानते हैं कि कुछ परिस्थितियां और अभाव सबके जीवन में होते हैं, इनके कारण बुझे- बुझे रहना किसी समस्या का हल नहीं है . अतः कोशिश करें कि हर पल आप खुश रहें , प्रसन्न रहें और मुस्कराते रहें. यद्यपि मैं बनावटी मुस्कराहट का पक्षधर नहीं हूँ फिर भी जो हमारे वश में नहीं हैं उन चीजों, पहलुओं को भुलाकर, जो हमारे वश में हैं उन छोटी -छोटी बातों से, चीजों से खुश रहना सीखें -यही छोटी ख़ुशी एक दिन आपके जीवन में बहुत बड़ी प्रसन्नता का कारण बनेगी .

इस तरह आप खुद के द्वारा प्रबंधन कर अपने व्यक्तित्व को मोहक और आकर्षक बना सकते हो. यह एक watch शब्द के जरिये आप अपना प्रबंधन करें और फिर देखिये कैसे आपका व्यक्तित्व हमेशा से अलग उभर कर आएगा. आप समझ सकते हैं, इन प्रयासों से आप कुछ खोओगे नहीं बल्कि बहुत कुछ पाओगे ही .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *