Gujrat : At a Glance
July 14, 2020
The Great people
ऐतिहासिक-व्यक्तित्व-2
July 22, 2020
The Great people

The Historical Personalities

अशोक महान : एक दृष्टि में

Ashoka the Great : At a Glance

वास्तविक नाम– अशोक वर्धन

प्रसिद्ध नाम – अशोक महान्‌

जन्म –     304 ईसा पूर्व पाटलिपुत्र में

सम्राट अशोक महान

अन्य नाम –     1. धर्माशोक (कलिंग विजय के पश्चात )

                    2. पियदस्सि (राज्याभिषेक का नाम)

                    3. चण्डाशोक (क्रोधी स्वभाव के कारण)

                     4. शांतावसाद

पिता    –       बिन्दुसार

प्रारम्भिक जीवन – 1. पिता के बीमार होने पर उज्जैन के सूबेदार बने.

                          2. सौतेले भाई सुसीम को मारकर राज्य का कार्यभार संभाला .

                        3. बचपन से ही अत्यंत नीच, दुष्ट एवं क्रूर प्रकृति के होने के   कारण “चंडाशोक” कहा जाता था.                  4. लोगों को मारने के उद्देश्य से रमणीय वध-स्थल की स्थापना की थी.

माता –           सुभद्रांगणी या धम्मा (चम्पा के ब्राह्मण की पुत्री)

पत्नी –            1. देवी (विदिशा के सेठी की सुन्दर पुत्री से प्रेम-विवाह किया)

                     2. तिष्यरक्षिता

                     3. कारुवाकी

                     4. पद्मावती

पुत्र  –          ।. तीवर या तीवल , 2. महेन्द्र, 3. कुणाल, 4. जालोक

सम्बंधित राजवंश – मौर्य राजवंश

 राज्याभिषेक  –      270  ईसा पूर्व

शासनकाल  –     1.  269 से 232 ईसा पूर्व ( कुछ साक्ष्यों के अनुसार  273 से 236 ईसा पूर्व भी माना जाता है .

 पूर्ववर्ती शासक – बिन्दुसार

 उत्तरवर्ती शासक – दशरथ मौर्य

गुरु  –              मोग्गलिपुत्र तिस्स

प्रादेशिक राजधानियां – (1) तक्षशिला

                                 (2) उज्जैन

                                (3) तोसली (कलिंग)

                                 (4) स्वर्णगिरि

प्रमुख युद्ध ­-         कलिंग युद्ध (26-60 ई. पू.)   (इस युद्ध के बाद अशोक चण्डाशोक से ‘धर्माशोक’ बन गया था.)

साम्राज्य –  मगध, पाटलिपुत्र, खलतिक पर्वत, कौशाम्बी, लुम्बिनीग्राम, कलिंग, अटवी, सुवर्णगिरि,

उज्जयिनी एवं तक्षशिल्रा उसके साम्राज्य के अन्तर्गत थे.

अशोक के धम्म की व्याख्या –

 “धम्म है साधुता, बहुत से अच्छे कल्याणकारी कार्य करना, पापरहित होना, मुदुला, दूसरों के प्रति व्यवहार में मधुरता, दया, दान, सत्य और पवित्रता.” (दूसरे एवं सातवें अभिलेख के अनुसार)

नियुक्तियाँ – शासन के 4वें वर्ष में धम्म प्रचार के लिए धम्म महामात्रों की नियुक्ति (सातवें स्तम्भाभिलेख में वर्णित)

भेजे गए धर्म प्रचारक  –       (1) मंज्क्षतिक – कश्मीर और गान्धार में

                                     (2) महादेव-महिषमण्डल में

                                     (3) महारक्षित-यवन राज्यों में

                                     (4) धर्मरक्षित-अपरान्त में

                                     (5) मज्झिम-हिमालय प्रदेश में

                                     (6) महाधर्मरक्षित-महाराष्ट्र में

                                      (7) रक्षित-वमयासी में

                                      (8) सोम एवं उत्तरा-सुवर्ण भूमि में

                                      (9) महेन्द्र एवं संघमित्रा-श्रीलंका में

केन्द्रीय  राजधानी –        पाटलिपुत्र

बौद्ध धर्म सम्बन्धी कार्य –         तृतीय बौद्ध संगीति का आयोजन किया  (अध्यक्ष मोग्गलिपुत्र तिस्स)

महत्त्वपूर्ण तथ्य –  1. मौर्य सम्राट अशोक ने अपने राज्याभिषेक के 8 वें वर्ष (261 ई. पू.) में कलिंग  पर

आक्रमण किया था। 

                        2. सम्राट अशोक पहले ऐसे शासक थे, जिन्होंने शिलालेखों की शुरुआत की थी .

       3. तक्षशिला, नालंदा और विक्रमशिला जैसे विश्वविद्यालयों की स्थापना सम्राट अशोक के काल में हुई थी.

                              

प्रसिद्ध वक्तव्य                –

“जिस प्रकार एक माँ अपने शिशु को एक कुशल धाय को सौंपकर निश्चित हो जाती है   कि कुशल धाय संतान का पालन-पोषण करने में समर्थ है, उसी प्रकार मैंने भी अपनी प्रजा के सुख और कल्याण के लिए रज्जुकों की नियुक्ति की है.”

मृत्यु –                  232 ई. पू.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *